पति की मौत के 7 माह बाद भी कालरी कर्मी की विधवा को नहीं मिला ग्रेच्युटी का पैसा
अनुसूचित जाति सफाई कर्मी की पत्नी से अधिकारी मांग रहे हैं रिश्वत
नियमत: एक माह के भीतर देना होता है  ग्रेजुएटी का पैसा

अनूपपुर/भालूमाड़ा। कॉलरी कर्मचारी की विधवा से ग्रेजुएटी भुगतान के लिए काॅॅलरी अधिकारी मांग रहे रिश्वत एसईसीएल  जमुना कोतमा क्षेत्र में अफसरशाही इतनी हावी है कि यहां के कालरी मजदूरों को नौकरी से लेकर उनके मरने के बाद भी यहां के काॅॅलरी अधिकारियों की भूख कम नहीं होती बात-बात पर श्रमिकों से रिश्वत लेने वाले अधिकारी इतने भी निर्दयी होंगे कोई सोच भी नहीं सकता, लेकिन सत्य यही है। इसी काॅॅलरी में बड़े-बड़े श्रमिक नेता बड़े-बड़े अधिकारियों ने यह ऐलान करके गए हैं कि श्रमिक की मौत के 1 माह के भीतर ग्रेजुएटी का पैसा उसके विधवा या उसके आश्रित को उसके घर में पहुंचा दिया जाएगा, लेकिन यहां पर एक अनुसूचित जाति के सफाई कर्मचारी के मौत के बाद 7 माह बाद भी उसकी विधवा ग्रेजुएटी के लिए दर-दर भटक रही है।
काॅॅलरी कर्मचारी सफाई कर्मी की विधवा अपने पति के मौत के बाद ग्रेजुएटी के लिए चक्कर काट रही है और अधिकारी खुलेआम रिश्वत मांगने घर तक जा रहे हैं जिस बात की शिकायत विधवा ने जमुना कोतमा क्षेत्र के महाप्रबंधक व वरिष्ठ अधिकारियों को की है।
  यह है मामला

 शिकायतकर्ता जानकी पति स्व. अशोक कुमार लाल पुरी निवासी दफाई नंबर तीन भालू माडा ने बताया कि उसके पति एसईसीएल जमुना कोतमा क्षेत्र के गोविंदा सवेरिया अंतर्गत सिविल विभाग कोतमा कॉलरी में सफाई के पद पर पदस्थ थे जो कैंसर से पीड़ित थे जिनकी मृत्यु 22 फरवरी 19 को हो गई लगभग 1 माह बाद जानकी ने अपने पति के ग्रेजुएटी के लिए गोविंदा सवेरिया कार्यालय में 28-3- 19 को समस्त दस्तावेज के साथ ग्रेजुएटी के लिए आवेदन किया लेकिन वहां पदस्थ अधिकारी व अकाउंटेंट ने चक्कर पर चक्कर कटवाते  रहे जहां वेलफेयर सुरेश कुमार मिश्रा एवं अकाउंटेंट अशोक वर्मा द्वारा टालमटोल करते हुए विधवा से ग्रेजुएटी के लिए एक लाख रुपए की मांग की गई ,  जानकी ने बताया कि अशोक वर्मा दो बार उसके घर भी आया था पैसा मांगने के लिए पैसा नहीं दिए जाने पर दोनों ने उसका ग्रेजुएटी का पैसा नहीं निकलने दे रहे इतना ही नहीं दोनों अधिकारी धमकी दे रहे हैं कि यदि पैसा नहीं दोगे तो तुम्हारा पैसा यही सड़ जाएगा ज्यादा करोगे तो तुम्हारा पैसा एलसी को भेज देंगे जहां जिंदगी भर केस लड़ते रहना। सफाई कर्मी अशोक लालपुरी की पत्नी ने बताया कि इतना ही नहीं वह जब भी ग्रेजुएटी के लिए बात करने सब एरिया ऑफिस गई हैं तब  उनके साथ अभद्र व्यवहार किया गया है और उन्हें मानसिक रूप से प्रताड़ित किया गया है जबकि मेरे द्वारा समस्त दस्तावेज प्रस्तुत किया गया है उसके बाद भी यह अधिकारी तरह-तरह के बहाने बनाकर मुझे प्रताड़ित कर रहे हैं। क्षेत्र के महाप्रबंधक को दिए गए शिकायत पत्र में बेवा जानकी ने मांग की है कि उसके ग्रेजुएटी का पैसा दिलाया जाए साथ ही गोविंदा सवेरिया में पदस्थ वेलफेयर व अकाउंटेंट पर कानूनी कार्रवाई करते हुए उसे न्याय दिलाया जाए।
इनका कहना है
शिकायत सही नहीं है हमारे पास कोई पेपर नहीं रुके हैं आप अधिक जानकारी के लिए एपीएम से बात कर लीजिए
सुरेश कुमार मिश्रा
वेलफेयर, कोतमा गोविंदा उपक्षेत्र

शिकायत मिली है जिसकी जांच कोतमा गोविंदा सबएरिया को दिए हैं जांच रिपोर्ट आने पर कार्रवाई की जाएगी।
वी.पी. सिंह
महाप्रबंधक,एसईसीएल जमुना कोतमा क्षेत्र