9.90 करोड़ की बिल्डिंग विभाग के सुपुर्द, अब शराब की दुकान को बचाने नहीं शुरू कर पा रहे जीएनएम की कक्षाएं

Apna Lakshya News


 


मध्यप्रदेश/सतना


सतना. सीएमएचओ दफ्तर परिसर में ९.९० करोड़ रुपए की लागत से बनी जीएनएम की बिल्डिंग शराब दुकान के कारण बे-उपयोगी साबित हो रही है। निर्माण इकाई ने बिल्डिंग को स्वास्थ्य महकमे के सुपुर्द कर दिया है पर शराब की दुकान हटानी न पड़े, इसलिए कक्षाएं और हॉस्टल नई बिल्डिंग में शुरू करने से कन्नी काटी जा रही है। इसका नतीजा यह है कि प्रदेशभर से नर्सिंग की पढ़ाई करने आईं छात्राएं जिला अस्पताल के ट्रेनिंग सेंटर के मीटिंग हाल में बैठकर पढ़ रही हैं। बेटी पढ़ाओ, बेटी बढ़ाओ का दंभ भरने वाले जिम्मेदारों का रवैया इससे ज्यादा शर्मनाक क्या हो सकता है।



जीएनएम कॉलेज का वर्ष 2016 से संचालन किया जा रहा। जीएनएम कॉलेज और हॉस्टल का भवन जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय परिसर में 9.90 करोड़ रुपए की लागत से बनकर तैयार हो गया है। लेकिन, कॉलेज के नजदीक ही नियम विरुद्ध तरीके और जिम्मेदारों की मेहरबानी से अंग्रेजी शराब दुकान भी संचालित हो रही है। छात्राओं को परेशानी का सामना न करना पडे़, इसलिए तत्कालीन सीएमएचओ ने शराब की दुकान हटावाने कलेक्टर से गुहार लगाई पर कोई असर नहीं हुआ। कार्रवाई की बजाय अब मामले को टाला जा रहा है।
प्रदेशभर में जिले की छवि धूमिल कर रहे जिम्मेदार प्रदेशभर से नर्सिंग की पढ़ाई करने आईं छात्राएं अध्ययन के लिए अच्छा वातावरण चाहती हैं। लेकिन, नवनिर्मित जीएनएम बिल्डिंग के पास नियम विरुद्ध तरीके से शराब की दुकान संचालित की जा रही है। वहां सुबह से लेकर देररात तक शराबियों का जमघट लगा रहता है। आए दिन वाद-विवाद भी होते रहते हैं। शराब दुकान हटाए बिना कक्षाओं सहित हॉस्टल का संचालन किया जाता है, तो छात्राओं की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े होंगे। शराब दुकान को बचाने जिम्मेदार जीएनएम शुरू करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। इससे जिले की छवि प्रदेश भर में धूमिल हो रही!!