बालू माफियाओं के हौसले है बुलंद दिनदहाड़े चल रहा है रेत का अवैध उत्खनन

 


 इस समय छतरपुर जिले में बालू माफियाओं की गुंडागर्दी चरम सीमा पर है जहां आए दिन अवैध रेत के उत्खनन से कई घटनाएं निकलकर सामने आ रही हैं लेकिन प्रशासन के उदासीन  रवैया के कारण बालू माफिया रातो रात के अलावा अब दिन दहाड़े भी अवैध उत्खनन करने के लिए बाज नही आ रहे हैं क्योंकि ना तो बालू माफियाओं को प्रशासन और न ही प्रशासनिक अधिकारियों का कोई भय नजर आ रहा है लेकिन प्रशासन भी बालू माफियाओं के इस काम को अनदेखा कर रही है


राजनगर से कुछ ही दूरी में चंदला रोड पर बीचो-बीच बालू से भरी ट्रैक्टर की ट्राली रखी हुई है और लगातार रेत के भरे बाहनों से हो रहे अवैध उत्खनन से रोडो की दुर्दशा भी बहुत खराब हो गई है जिससे बाहनों को आने जाने में परेशानि हो रही हैं इससे साफ स्पष्ट होता है कि बालू माफियाओं को प्रशासन और प्रशासनिक अधिकारियों का कोई भय नहीं है और जब चाहे जहां चाहे रेत से भरी ट्रैक्टर-ट्राली ट्रक खराब होने पर बीच रोड पर खड़ा कर चले जाते हैं
प्रशासन की मिलीभगत से अवैध रेत उत्खनन का काम जोरों पर चल रहा है दिनदहाड़े अधिकारियों के सामने से बालू से लदी ट्रैक्टर ट्रॉली, ट्रक धड़ल्ले से निकलते हैं इस पर प्रशासनिक अधिकारियों का कोई ध्यान नहीं जाता


बालू के अवैध रेत उत्खनन के कारण प्रशासनिक अधिकारियों पर भी कई सवाल खड़े होते हैं कि क्या अधिकारीओ की मिलीभगत से ही यह रेत उत्खनन हो रहा है या नहीं  है अगर नही तो रेत माफियाओं के हौसले इतने बुलंद क्यों है