बच्चों के मस्तिष्क विकास में बाधक हो सकता है वायु प्रदूषण : यूनिसेफ

... नई दिल्ली, एजेंसी बच्चों के मस्तिष्क विकास में वायु प्रदूषण बाधक हो सकता हैइस आशय का दावा यूनीसेफ की कार्यकारी निदेशक हेनरिटा फोरे ने किया हैउन्होंने कहा कि वायु प्रदूषण का जहर बच्चों के मस्तिष्क विकास को प्रभावित कर सकता है और भारत व दक्षिण एशिया में गहराते इस संकट से निपटने के लिए उन्होंने तत्काल कदम उठाने का आह्वान किया। हाल ही में भारत का दौरा कर चुकीं फोरे ने बुधवार को कहा, मैंने अपनी आंखों से देखा है कि बच्चे वायु प्रदूषण के भयानक परिणामों से किस तरह लगातार पीड़ित हो रहे हैं। उन्होंने कहा, वायु गुणवत्ता एक संकट के स्तर पर थी। आप वायु शोधक मास्क लगाने के बाद भी विषाक्त धुंध की गंध का एहसास कर सकते हैं। फोरे ने कहा कि वायु प्रदूषण बच्चों पर सबसे ज्यादा असर डालता है और यह उनके जीवन को लगातार प्रभावित करता रहता है, क्योंकि उनके फेफेड़े अपेक्षाकृत छोटे होते हैं और वे वयस्कों की बनिस्बत दोगुना तेजी से सांस लेते हैं। उनमें प्रतिरक्षण क्षमता की कमी होती है। उन्होंने कहा, यह शिशुओं और छोटे बच्चों में मस्तिष्क के ऊतक को क्षतिग्रस्त करता है और उनमें संज्ञानात्मक विकासको रोकता है, जिसका खामियाजा वे पूरे जीवन भुगतते हैं और उससे उनकी सीखने-समझने की क्षमता और भविष्य प्रभावित होता है। इस बात के सबूत हैं कि उच्च स्तर के वायु प्रदूषण में रह चुके किशोरों को अपेक्षाकृत अधिक मानसिक स्वास्थ्य की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ___ फोरे ने कहा कि यूनीसेफ दक्षिण एशिया में 62 करोड़ बच्चों को प्रभावित कर रहे इस वायु गुणवत्ता संकट से निपटने के लिए तत्काल कदम उठाने का आह्वान करता है। उल्लेखनीय है कि पड़ोसी राज्यों में पराली जलाए जाने के कारण पैदा हुए गंभीर पर्यावरण हालात के मद्देनजर दिल्ली के स्कूलों को मंगलवार तक के लिए बंद कर दिया गया था। दिल्ली में रविवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक 625 पर पहुंच गया था, जिसे अत्यंत गंभीर स्तर का माना जाता है