भोपाल । आज सम्पूर्ण भारत राष्ट्रीय प्रेस दिवस मना रहा

भोपाल ।  प्रेस की आजादी की रक्षा के लिऐ गठित प्रेस कौंसिल अर्थात प्रेस परिषद का गठन तो 04जुलाई 1966को हो गया था पर उसने सुचारू रूप से काम करना आज ही के दिन 16नवम्बर 1966 से आरंभ किया था । जिसके कारण तबसे आज ही के दिन संपूर्ण भारत में राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया जाता है 
प्रेस परिषद गठित करने का असल मकसद था कि देश में प्रेस की आजादी को बचाए-बनाए रखा जाए और साथ ही साथ पत्रकारिता के उच्च मापदंडों की रक्षा में मदद करना।
परन्तु अपने गठन से आज तक प्रेस परिषद अपने उददेश्य में कितनी सफल हुई यह विषय ही प्रासंगिक है ।ऎसे कई सवाल हैँ जिनके उत्तर आज तक नही मिले जैसे  देश की मीडिया कितनी आजादी से काम कर पा रही है और पत्रकारिता अपने उद्देश्य और सिद्धान्तों में कितनी सफल हो रही है? क्या प्रेस परिषद ने मीडिया जगत में ऐसी प्रतिष्ठा, पहचान और विश्वसनीयता बनाई है कि कोई भी आघात लगते ही मीडिया उसके पास जाए? क्या ऐसे मौकों पर प्रेस परिषद ने उन्हें सम्बल देते हुए उनके साथ न्याय सुनिश्चित किया है? अथवा फिर वह एक और सरकारी विभाग ही साबित हुई? इन सब सवालों के जवाब में प्रेस परिषद निरुत्तर है ।
पिछ्ले एक दशक में संपूर्ण भारत में पत्रकारों की हत्याओं की घटनाओ ने प्रेस की आज़ादी पर सवाल उठाया । भूमाफियाओं , अपराधियों और सफेद पोश अपराधियों के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने वाले पत्रकारों की निर्मम हत्याएं साक्षी हैँ प्रेस परिषद की असहाय स्थिति की । सरकार द्वारा पत्रकार सुरक्षा के नाम पर कौई ठोस कदम नही उठाना भी इस बात का प्रमाण है कि सरकार खुद नही चाहती की कि प्रेस की आज़ादी बरकरार रहे ।


Popular posts from this blog

आज से खुलेंगी किराना दुकानें, खरीद सकेंगे राशन, प्रशासन ने तय किए सब्जी के रेट, देखें लिस्ट

आंगनबाड़ी केंद्र वार्ड नं 13 में किया गया टीकाकरण कार्यक्रम

कोतमा में राजश्री सहित कई  उत्पादों की कालाबाज़ारी जोरों पर