चिकित्सक के अभाव में जिला अस्पताल का सोनोग्राफी जांच केंद्र 21 दिनों से बंद 22वें दिन खुला, 23वें दिन फिर बंद


मध्य प्रदेश के एक्सीलेंस जिला अस्पताल का हाल, 21 दिन बाद सोनोग्राफी, आज फिर ताला


सतना/ जिला अस्पताल का ट्रामा यूनिट स्थित सोनोग्राफी जांच केंद्र में 21 दिनों तो ताला लटका हुआ था। जिला अस्पताल आने वाले पीडि़तों को निजी केंद्र मे जांच करानी पड़ रही थी। 22वें दिन महज तीन घंटे के लिए जांच केंद्र खोला गया। प्रभारी चिकित्सक की तैनाती जिला अस्पताल में रात की पाली में कर दी गई है। ऐसे में 23 वे दिन जांच केंद्र में फिर ताला रहेगा। पीडि़तों को जांच के लिए भटकाव झेलना पड़ेगा।


दरअसल सोनोग्राफी करने वाले चिकित्सक डॉ. गोपाल दास छाबडि़या प्रशिक्षण लेने भोपाल गए हुए था। जिला अस्पताल प्रबंधन द्वारा किसी प्रकार की वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की गई थी। जिसकी वजह से 21 दिनों से सोनोग्रफी जांच केंद्र में ताला लटका हुआ था। सोनोग्राफी जांच के लिए अस्पताल पहुंच रहे पीडि़तों को मजबूरी में निजी केंद्र में जांच करानी पड़ रही थी।


21 दिन बाद तीन घंटे के लिए खुला केंद्र
डॉ. गोपाल दास छाबडि़या भोपाल से ट्रेनिंग के बाद 24 नवंबर को सतना लौटे। जिन्होंने 25 नवंबर को ड्यूटी ज्वाइन की। जिसके बाद ट्रामा यूनिट स्थित जांच केंद्र बीस दिन बाद तीन घंटे के लिए खुला। हालांकि चिकित्सक के नहीं होने के कारण ओपीडी से किसी भी पीडि़त को जरुरत होने के बाद भी सोनोग्राफी जांच नहीं लिखी जा रही थी।


आज फिर रहेगा जांच केंद्र में ताला