CM कमलनाथ के जन्मदिन पर छपा विज्ञापन से उपजा विवाद, अर्जुन सिंह की वजह से कमलनाथ नहीं बन सके थे CM, तो दिग्विजय के कारण इस बार बने CM


मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के जन्मदिन 18 नवंबर को अखबारों में प्रकाशित  विज्ञापन के एक पैराग्राफ के मुताबिक 1993 में कमलनाथ का नाम मुख्यमंत्री के लिए चल रहा था लेकिन अर्जुन सिंह ने तब दिग्विजय सिंह का नाम आगे कर दिया, 25 साल बाद कमलनाथ को दिग्विजय सिंह के समर्थन से मुख्यमंत्री बनने का मौका मिला लेकिन विवाद के बाद मंगलवार को यही विज्ञापन फिर अखबारों में प्रकाशित हुआ, लेकिन इस विज्ञापन से वो विवादित हिस्सा हटा दिया गया जो सोमवार को प्रकाशित हुआ था इस विज्ञापन में डिस्क्लेमर के जरिए इस गफलत के लिए विज्ञापन एजेंसी को जिम्मेदार ठहराया गया, मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने विज्ञापन जारी करने से भी इनकार किया है, लेकिन इस मामले में कोई शिकायत पुलिस में दर्ज नहीं कराई गई है, टॉप सूत्रों के मुताबिक सरकार के जनसंपर्क मंत्री पी.सी. शर्मा को विवादित विज्ञापन के कंटेंट के पीछे माना जा रहा है, पी.सी.शर्मा को दिग्विजय सिंह का करीबी माना जाता है।