घायल गाय की दवाई लगाकर की सेवा

अपना लक्ष्य


ककरहटी आजकल हर जगह बेसहारा गोवंशीय पशु मारे-मारे फिर रहे हैं। इन्हें न तो कोई खाना पीना देने वाला है और ना ही कोई इन बेसहारा पशुओं की बीमारी या अन्य तरह से घायल अवस्था में दवा करने वाला है। आज उपेक्षित बेसहारा पशु किसानों के लिए मुसीबत साबित हो रहे हैं। जिसके कारण खेती किसानी चौपट करने या समाज में अमानवीय लोग हैं जो डंडे से मारकर इन्हें घायल कर देते हैं। ऐसे ही एक गाय के पैरों में किसी ने धारदार हथियार से घाव कर दिया जो कई दिनों से तड़प रही थी उसका पैर गल चुका है। जिस पर समाजसेवी कैलाश त्रिपाठी ने लोगों के साथ मिलकर गाय के पैर के घाव की साफ-सफाई की और दवा लगाकर पट्टी की।


Popular posts from this blog

आज से खुलेंगी किराना दुकानें, खरीद सकेंगे राशन, प्रशासन ने तय किए सब्जी के रेट, देखें लिस्ट

3 जिले पूरी तरह सील, 11 जिलों में टोटल लॉकडाउन, बाहर निकले तो होगी FIR

आपदा प्रबन्धन समिति में गरीबों को भोजन देने का जिम्मेदारी साहब को दी गई है पर साहब अपने कुछ खास मित्रो का ज्यादा ख्याल करते दिखे ये वही है जिनके ऊपर घोटालों की लम्बी लिस्ट तैयार है,