जेएनयू स्टूडेंट्स को नहीं भाया निर्णय

नई दिल्ली। जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में पढने वाले छात्रों के एक घड़े को शनिवार को अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय पसंद नहीं आया। देश की सर्वोच्च अदालत में 9 नवंबर (शनिवार) की सुबह चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5 जजो की बेंच ने अयोध्या में राम जन्मभूमि पर भगवान राम के लिए एक भव्य मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करते हुए, सर्वसम्मति से अपना फैसला दिया। इस फैसले के बाद जेएनयू विश्वविद्यालय के छात्रों ने अदालत के इस निर्णय पर यूनिवर्सिटी परिसर में विरोध प्रदर्शन किया। हालाकि छात्रों के इस घड़े के विरोध प्रदर्शन से पहले यहां एबीवीपी के स्टूडेंट्स पहुंचे और उन्होंने न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए यूनिवर्सिटी परिसर में दीप जलाए। साथ ही, मंदिर वहीं बनाएंगे के नारे लगाए। अब तक यूनिवर्सिटी में किसी तरतह के कोई हंगामे की खबर नहीं है


Popular posts from this blog

आज से खुलेंगी किराना दुकानें, खरीद सकेंगे राशन, प्रशासन ने तय किए सब्जी के रेट, देखें लिस्ट

3 जिले पूरी तरह सील, 11 जिलों में टोटल लॉकडाउन, बाहर निकले तो होगी FIR

आपदा प्रबन्धन समिति में गरीबों को भोजन देने का जिम्मेदारी साहब को दी गई है पर साहब अपने कुछ खास मित्रो का ज्यादा ख्याल करते दिखे ये वही है जिनके ऊपर घोटालों की लम्बी लिस्ट तैयार है,