किसानो को बिजली विभाग किस प्रकार से बेवकूफ बना रहा है देखे


5 Hp की मोटर 8 घण्टे चलती है तो लगभग 30 unit बनती है  इस प्रकार 30 दिन 8 घण्टे पर लगभग 900 unit का बिल बनाती है ।
किसान गेहु चना कपास तुउर,आलु गाजर कोई भी फसल ले लो 3 माह के लगभग पक कर घर मे आ जाती है । किसी भी फसल को 8 से 15 दिन के अन्तराल मे पानी देना होता है । वह भी पूरी फसल मे अधिकतम 25 से 35 दिन ( ऐसा किसानो ने बताया, एवं सही भी है ) अगर अधिकतम 35 दिन मान लेते है तो कुल बिजली 1050 unit ( 5Hp की मोटर पर ) उपयोग हो रही है ।
बिजली विभाग किसानो को सिचांई हेतु अधिकतम 8-9 घण्टे बिजली दे रहा है ओर गणना भी 9 घण्टे से की है ।
बिजली विभाग 5 Hp की मोटर का 3 माह का बिल लगभग 10-11 हजार ले रहा है जो कि उपर गणना के हिसाब से 1050 unit का है । अर्थात प्रति युनिट लगभग 10 / पड रही है, वह भी सबसिडी के बाद । आप सोचो क्या किसानो को बिजली मे सबसिडी मिली है या किसानो से ज्यादा बिजली के नाम पर ज्यादा पेसे लिये ।
यह हर सरकार मे होता है ।
क्योकि जो निती नियम बनते है, वह ए.सी मे बेठकर बनते है, ओर किसान धूप मे फसल पेदा करता है ।
 आओ विचार  , क्या सरकारे किसान हितेषी है