किसानो को बिजली विभाग किस प्रकार से बेवकूफ बना रहा है देखे


5 Hp की मोटर 8 घण्टे चलती है तो लगभग 30 unit बनती है  इस प्रकार 30 दिन 8 घण्टे पर लगभग 900 unit का बिल बनाती है ।
किसान गेहु चना कपास तुउर,आलु गाजर कोई भी फसल ले लो 3 माह के लगभग पक कर घर मे आ जाती है । किसी भी फसल को 8 से 15 दिन के अन्तराल मे पानी देना होता है । वह भी पूरी फसल मे अधिकतम 25 से 35 दिन ( ऐसा किसानो ने बताया, एवं सही भी है ) अगर अधिकतम 35 दिन मान लेते है तो कुल बिजली 1050 unit ( 5Hp की मोटर पर ) उपयोग हो रही है ।
बिजली विभाग किसानो को सिचांई हेतु अधिकतम 8-9 घण्टे बिजली दे रहा है ओर गणना भी 9 घण्टे से की है ।
बिजली विभाग 5 Hp की मोटर का 3 माह का बिल लगभग 10-11 हजार ले रहा है जो कि उपर गणना के हिसाब से 1050 unit का है । अर्थात प्रति युनिट लगभग 10 / पड रही है, वह भी सबसिडी के बाद । आप सोचो क्या किसानो को बिजली मे सबसिडी मिली है या किसानो से ज्यादा बिजली के नाम पर ज्यादा पेसे लिये ।
यह हर सरकार मे होता है ।
क्योकि जो निती नियम बनते है, वह ए.सी मे बेठकर बनते है, ओर किसान धूप मे फसल पेदा करता है ।
 आओ विचार  , क्या सरकारे किसान हितेषी है


Popular posts from this blog

आंगनबाड़ी केंद्र वार्ड नं 13 में किया गया टीकाकरण कार्यक्रम

कोतमा में राजश्री सहित कई  उत्पादों की कालाबाज़ारी जोरों पर

कोरोना संक्रमित कैदियों को सतना जेल लाना विंध्य के साथ अन्याय : पं. रामनिवास उरमलिया