कोतमा पुलिस  के  नाक  नीचे खुलेआम नाच रही बामन परी


कोतमा/ कोतमा थाना इन दिनों सुर्खियों पर चल रहा है यहां पर खुलेआम जुए के फड़ सफेदपोश धारियों के संरक्षण पर चल रहे हैं जुए के फल में बैठने वाले खिलाड़ियों के लिए विशेष व्यवस्था पी जाती है फड़ में बैठने के बाद यदि धन की कमी हो जाए वहां तत्काल संचालकों द्वारा  उधार देकर पैसों की व्यवस्था की जाती है । 
      युवाओं में जुएं की बढ़ती प्रवृत्ति---- कोतमा नगर के प्रतिष्ठित सफेदपोश धारियों का संरक्षण एवं पुलिस विभाग की  निष्क्रियता होने के कारण इन दिनों युवाओं में नसे एवं जुएं की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है जिसके कारण क्षेत्र में अपराध की घटनाओं में इजाफा होते दिख रहा है। 
   पारिवारिक कलह का कारण---- जुए की लत लग जाने के कारण आर्थिक तंगी होने लगती है जिसके कारण गृहणी यों को घर चलाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है जहां एक ओर वर्तमान समय भौतिक सुख-सुविधाओं एवं विलासिता के जीवन जीने को आदी हो चुका है वही घर के मुखिया या उनके परिवार के सदस्यों में जुए एवं नशे की प्रवृत्ति बढ़ जाने के कारण घर चलाने में काफी मशक्कत करनी पड़ती है जिसका खामियाजा परिवार को चलाने वाली महिलाओं पर पड़ता है जो आर्थिक तंगी को झेलते हुए आए दिन घर में विवाद की स्थिति निर्मित हो जाती है और धीरे-धीरे परिवार टूटने लगता है इन सभी समस्याओं की एकमात्र जड़ खुलेआम अवैध रूप से संचालित जुए की फड़ अवैध रूप से मिलने वाली नशीली वस्तुएं हैं। 
  जुए के मुख्य ठीहे--_ कोतमा नगर मैं लहसुन कैंप के कालरी क्वार्टरों गोविंदा कॉलोनी के नर्सरी पर गोविंदा कालरी के खाली पड़े मकानों में खुलेआम जुए के पर संचालित होते हैं।
    क्षेत्र की जनता पुलिस विभाग के उच्च अधिकारियों से अपेक्षा करती है कि इस तरह के अवैध संचालित फड़ पर कार्यवाही कर अवैध कारोबार को बंद कराया जाए जिससे युवाओं में बढ़ रही नशाखोरी एवं जुए की प्रवृत्ति रोकी  जा सके।