लोधी निष्कासन मामले में राज भवन और विधानसभा आमने-सामने

अपना लक्ष्य 


भोपाल  पन्ना जिले के पवई से भाजपा के विधायक पहलाद लोधी की सदस्यता समाप्त करने के मामले में राज भवन और विधानसभा अध्यक्ष के बीच की तल्खी खुलकर सामने आ गई है। राज्यपाल ने इसे अपनी प्रतिष्ठा से जोड़ लिया है। जिसके कारण मामला विवादों में फंसता चला जा रहा है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्यपाल महोदय ने विधानसभा अध्यक्ष को चर्चा के लिए राजभवन में बुलाया था। विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति भोपाल से बाहर थे। जिसके कारण वह राज्यपाल से नहीं मिल सके। इसी बीच भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का दबाव लगातार बढ़ने और विधानसभा अध्यक्ष के राज्यपाल से नहीं मिलने को लेकर, मामला तूल पकड़ गया। रविवार को पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निवास पर राज्यपाल लगभग पौने 2 घंटे रहे। इस बीच प्रहलाद लोधी की सदस्यता का मामला भी अटकलों में छाया रहा। राजभवन द्वारा विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति के नहीं मिलने पर चुनाव आयोग से भी पत्र लिखकर इस मामले की वस्तु स्थिति से अवगत कराने के लिए कहा गया है। विधायक पहलाद लोधी को विशेष अदालत से 2 साल की सजा सुनाई गई थी। उस मामले में हाईकोर्ट से स्थगन मिल चुका है। हाईकोर्ट से स्थगन मिलने के पूर्व ही विधानसभा अध्यक्ष द्वारा विधायक की सदस्यता समाप्त करने की अधिसूचना जारी कर दी गई थी। यह भी कहा जा रहा है, मध्य प्रदेश चुनाव आयोग द्वारा भी पहलाद लोधी का चुनाव निरस्त करने की अधिसूचना जारी कर केंद्रीय चुनाव आयोग को भेज दी थी। भारतीय जनता पार्टी के नेताओं द्वारा, लगातार राज्यपाल पर दबाव बनाए जाने के बाद, इस मामले ने तूल पकड़ लिया है। विधानसभा के प्रमुख सचिव ने इस संबंध में कोई भी जानकारी होने से अनभिज्ञता प्रकट की है। वहीं विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति छत्तीसगढ़ के प्रवास पर हैं। राज्यपाल और विधानसभा अध्यक्ष का पद संवैधानिक पद है। ऐसी स्थिति में राजधानी में जो अटकलें चल रही हैं। उससे राजनीतिक माहौल गरमाया हुआ है। भारतीय जनता पार्टी ने इसे प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया है। वह राजभवन के सहारे जल्द से जल्द पहलाद लोधी की, जो सदस्यता समाप्त की गई है। उस सदस्यता को बहाल करने के लिए हर संभव जोड़-तोड़ कर रही है। प्रदेश में यह दूसरा मौका है, जब विधायक की सदस्यता समाप्त करने के मामले में, राजभवन और विधान सभा, सदस्यता विवाद मामले में टकराव की स्थिति देखने को मिल रही है।