महाराष्ट्र के राज्यपाल द्वारा सरकार बनाने के लिए समय नहीं दिए जाने को चुनौती देने वाली याचिका शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में दायर कर दी है.

 


नई दिल्ली : महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया है. राजभवन की तरफ से आए बयान में यह बात कही गई है. संविधान के अनुच्छेद 356 के तहत राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू किया गया है.


कोश्यारी के कार्यालय द्वारा ट्वीट किये गये एक बयान के अनुसार, 'वह संतुष्ट हैं कि सरकार को संविधान के अनुसार नहीं चलाया जा सकता है, (और इसलिए) संविधान के अनुच्छेद 356 के प्रावधान के अनुसार आज एक रिपोर्ट सौंपी गई है.'



30 साल में दूसरी बारी टूटी भाजपा-शिवसेना की दोस्ती, बाल ठाकरे-महाजन के प्रयास से हुआ था गठबंधन


महाराष्ट्र में खेला जा रहा है इस समय सत्ता का खेल


2014 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के दौरान शिवसेना और भाजपा से अलग-अलग चुनाव लड़ा था
हालांकि, चुनाव परिणाम आने के बाद भाजपा ने शिवसेना के समर्थन से राज्य में सरकार बनाई थी


मुंबई. महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए शुरू हुई खींचतान में भाजपा-शिवसेना की दोस्ती टूट गई। 30 साल में यह दूसरा मौका है जब हिंदुत्ववादी विचारधारा की इन दोनों पार्टियों ने अलग-अलग रास्ते चुनें हैं। साल 1989 में भाजपा-शिवसेना के बीच गठबंधन हुआ था। तब भाजपा नेता प्रमोद महाजन और शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे के प्रयासों से यह गठबंधन हुआ था।


  
इससे पहले 2014 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के दौरान शिवसेना और भाजपा से अलग-अलग चुनाव लड़ा था। हालांकि, चुनाव परिणाम आने के बाद भाजपा ने शिवसेना के समर्थन से राज्य में सरकार बनाई थी। 2014 को छोड़ दिया जाए तो 1989 के बाद से राज्य में सभी विधानसभा और लोकसभा चुनाव दोनों दलों ने एक साथ मिलकर लड़ा था। 
 
दोनों दलों में हुआ था गठबंधन
राजनीतिक जानकारों की मानें तो 1980