मजाक बन गई परिषद बैठक, शासन को भेजा एजेंडा ढाई घंटे तक चली रस्साकस्सी, विपक्ष का बहिष्कार जारी

 


विशेष रिपोर्ट। रीवा नगर निगम की परिषद बैठक को मजाक बनाकर रख दिया गया है। यह काम किसी और ने नहीं बल्कि उन्ही जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों ने किया है जिन्हें जनता ने शहर का समुचित विकास करने के लिए अपना अमूल्य मत देकर चुनाव जीताया था। रीवा नगर निगम के अफसरों की कार्यशैली भी परिषद बैठक को मजाक बनाने में सहयोग करती नजर आई। 14 अक्टूबर से लगातार आयोजित होने वाली परिषद की बैठक को बिना किसी नतीजे के निरस्त करने की कार्यवाही को अंजाम दिया गया शुक्रवार को चौथी बैठक के दौरान भी एमआईसी सदस्य और नगर निगम के अधिकारी पुराने 11 सूत्रीय एजेंडे को लेकर सहमत नजर नहीं आए जिसके कारण अंततः नगर निगम अध्यक्ष सतीश सोनी ने संबंधित एजेंडे को निर्णय के लिए शासन स्तर पर भेजने का फैसला किया उनकी घोषणा के बाद ही परिषद बैठक समाप्त होने की प्रक्रिया को संपादित किया गया। यह चौथा मौका था जब परिषद बैठक के दौरान नेता प्रतिपक्ष अजय मिश्रा बाबा सहित विपक्ष कांग्रेस पार्टी के समस्त पार्षद नदारद नजर आए। एक बैठक में जरूर बतौर  जिम्मेदार सदस्य के रूप में वार्ड क्रमांक 12 के पार्षद विनोद शर्मा परिषद बैठक में नजर आए थे लेकिन शुक्रवार को आयोजित नगर निगम परिषद की बैठक में कांग्रेसका कोई भी पार्षद सदन में नजर नहीं आया। इसके पीछे वजह यह बताई गई की 14 अक्टूबर 2019 को आयोजित परिषद बैठक में जब प्रभारी महापौर वेंकटेश पांडे ने 11 सूत्रीय एजेंडा परिषद बैठक में रखा तो नेता प्रतिपक्ष सहित कांग्रेश के सभी पार्षदों ने एकमत से बहिष्कार कर दिया था। जिसके बाद से 30 अक्टूबर 20 नवंबर और फिर 29 नवंबर 2019 शुक्रवार को पुराने एजेंडे पर नगर निगम परिषद की बैठक आयोजित की गई। शुक्रवार को ढाई घंटे तक सदन के अंदर नौटंकी चलती रही। भारतीय जनता पार्टी के पार्षद और एम आईसी सदस्य लगातार यही कह रहे थे कि सबसे पहले अध्यक्ष यह बताएं कि यह 11 सूत्रीय एजेंडा विधि सम्मत है या नहीं। नगर निगम अध्यक्ष सतीश सोनी के कहने पर आयुक्त सभाजीत यादव ने जवाब देने का प्रयास जरूर किया पर एम आईसी सदस्यों को संतुष्ट नहीं कर पाए। जब निरंतर प्रयास करने के बाद भी एजेंडे पर चर्चा शुरू नहीं हो पाई तो नगर निगम अध्यक्ष सतीश सोनी ने संबंधित एजेंडे को शासन को भेजने का आदेश देकर परिषद बैठक को समाप्त कर दिया। अब इस मामले में शासन के आदेश पर ही कार्रवाई शुरू होगी। इस परिषद बैठक में महापौर ममता गुप्ता, नगर निगम अध्यक्ष सतीश सोनी, नगर निगम आयुक्त सभाजीत यादव, उपायुक्त अरुण मिश्रा, एम आईसी सदस्य वेंकटेश पांडे, नीरज पटेल, शिवदत्त पांडे, मनीष श्रीवास्तव, सहित अन्य भाजपाई पार्षदों की मौजूदगी नजर आई।