साहब...कभी मोटरसाइकल से मैहर के रास्तों में गुजारिये शायद पीड़ा का एहसास हो

🚔
✍🏻मैहर नगर और ग्रामीण क्षेत्र आज प्रदूषण की कितनी पीड़ा सह रहा है इसका अंदाजा लगाना है तो जिले का जिम्मेदार अमला कभी मोटरसाइकल से मैहर नगर सहित मैहर से नादन, भदनपुर से भटूरा तक सफ़र करें, हजारो लोग प्रदूषण की मार झेल रहे है श्वास,फेफड़े के रोगी हो रहे है लेकिन सतना जिले के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में बैठे अधिकारी इतने सुस्त है कि उन्हें इसकी रोकथाम के लिए कोई उपाय नही अपनाया,उद्योगों में चलने वाले ट्रको की धूल,क्रेशरों से उड़ने वाली धूल,सीमेंट प्लांट से निकलने वाला धुंआ,मैहर रीवा मार्ग NH के किनारे दबंगई से संचालित हो रहे डामर प्लांट का जहरीला धुंआ की वजह से रोड किनारे पेड़ो में सफेद चादर चढ़ी हुई है सड़को में 24घंटे धूल की धुन्ध छाई रहती है,खेत वंजर हो रहे है लोग श्वास फेफड़ा चर्म रोग के शिकार हो रहे है जिसे देख साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि मैहर में लगे उद्योगो के वाहन और उनके धुंए से मैहर में चौतरफा किस कदर प्रदूषण फैल रहा है,सतना प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी और मैहर के प्रशासक एक बार मात्र भदनपुर से भटूरा या मैहर नगर का भ्रमण मोटरसाइकल से करे तो शायद उन्हें हजारो लोगो के दर्द का एहसास हो तब कहि शायद जनहित का कदम उठे लोगो ने जिले के प्रशासनिक मुखिया कलेक्टर महोदय से अनुरोध किया है कि प्रदूषण विभाग के अधिकारियों को मामले में सख्ती बरतने के लिए निर्देशित करें ताकि मैहर के लोग प्रदूषण की मार से मुक्त हो सके!