साटा स्कन और एमआरआई जांच नहीं हो रही निःशुल्क

भुगतान करने गरीब मरीजों पर हो रही रही गरीब मरीजों की जांचें


अपना लक्ष्य


भोपाल राजधानी के सबसे पुराने हमीदिया अस्पताल में इलाज के लिए आने वाले गरीब मरीजों की सीटी स्कैन और एमआरआई जांच निशुल्क नहीं हो रही है। इसके लिए इन गरीब मरीजों को भी मजबूरी में भुगतान करना पड़ रहा है। अस्पताल की ओपीडी में दिखाने वाले गरीब मरीजों की सीटी स्कैन और एमआरआई जांच निशुल्क नहीं होने पर कुछ मरीज पैसों के अभाव बिना इलाज लौट रहे हैं। अधीक्षक ने आदेश जारी कर कहा है कि अब सिर्फ %आयुष्मान भारत योजना के तहत चिन्हित मरीजों की ही मुफ्त जांचें की जाएंगी। इस योजना में शर्त यह है कि मरीज के भर्ती होने पर ही जांच की जाएगी। ऐसे में ओपीडी में दिखाने वाले आयुष्मान योजना के मरीजों की निःशुल्क जांच नहीं हो पा रही है। मालूम हो कि हमीदिया अस्पताल में सीटी स्कैन और एमआरआई की जांच की सुविधा पीपीपी से शुरू की गई है। अभी तक गरीबी रेखा में आने वाले मरीजों के साथ ही ही थैलेसीमिया मरीज, मुफ्त खाद्यान्य पाने वाले मरीज समेत 23 श्रेणी के मरीजों की निःशुल्क जांच की जा रही थी। 19 नवंबर से सिर्फ आयुष्मान योजना के तहत आने वाले मरीजों की निःशुल्क जांच की जा रही है। हर दिन करीब 30 मरीजों की निःशुल्क सीटी स्कैन जांच व 20 मरीजों की एमआरआई जांच हो रही थी। भर्ती होने की शर्त होने की वजह से करीब आधे मरीज ही जांच करा _रहे हैं। बता दें कि ओपीडी में आने वाले मरीजों करीब 10 फीसदी ही भर्ती होते हैं। इस संबंध में प्रदेश की चिकित्सा मंत्री डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ का कहना है कि इस संबंध में प्रमुख सचिव से चर्चा कर पूरा मामला समझेंगे। गरीब मरीजों को कोई परेशानी नहीं होने देंगे।