संकट।निर्माणाधीन रेल सुरंग का काम बंद करेंगे हितग्राही जमीन के बदले नौकरी की आस लगाए बैठे हैं किसान

 


विशेष रिपोर्ट। ललितपुर सिंगरौली रेल परियोजना के अंतर्गत रीवा और सीधी जिले की सीमा में मौजूद छुहिया घाटी में निर्माणाधीन रेलवे सुरंग के काम पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। ऐसे में किसी समय भी रेल सुरंग निर्माण का काम बंद हो सकता है। छुहिया घाटी से लगे रामपुर नैकिन तहसील के गोडहा टोला में रेलवे ने परियोजना के लिए तकरीबन 94 हितग्राही की जमीन को अधिग्रहित किया था। लेकिन इन सभी हितग्राहियों को अभी तक रेलवे जमीन नहीं दे पाया। जबकि दो साल पहले सभी हितग्राहियों ने रेलवे की नौकरी हासिल करने के लिए आवेदन किया था लेकिन अब तक इस दिशा में सार्थक प्रयास नजर नहीं आया है। वहीं रेलवे की नौकरी हासिल करने के लिए गोडहा टोला के हितग्राही किसी भी समय निर्माणाधीन रेल सुरंग का काम बंद करवा सकते हैं। दो साल पहले गोडहा टोला के हितग्राहियों ने जबलपुर मंडल के अंतर्गत नौकरी के लिए आवेदन की प्रक्रिया को पूरा किया था। इसके बाद आज तक नौकरी को लेकर किसी तरह की कार्यवाही रेलवे ने नहीं की है। जबकि लगातार समय समय पर हितग्राही जबलपुर मंडल कार्यालय पहुंच कर नौकरी की जानकारी हासिल करने को मजबूर हैं। संबंधित हितग्राहियों ने कहा कि यदि नौकरी को लेकर जल्द आवश्यक कार्रवाई नहीं की जाती है तो हम सभी छुहिया घाटी में चल रहे रेल सुरंग के काम को ठप्प कर देंगे। इसके पहले भी गोडहा टोला में रहने वाले हितग्राहियों ने मुआवजा न मिलने के कारण निर्माण कार्य को बंद करा दिया था। तब मंडल, जोन और रेलवे बोर्ड तक सूचना आग की तरह फैल गई थी। इसके उपरांत तत्काल हितग्राहियों के खातों में मुआवजा राशि ट्रांसफर कर दी गई, जिसके बाद अबीर इंटरप्राइजेज लिमिटेड दिल्ली विधिवत घाटी में सुरंग निर्माण कार्य को करने लगी। 
हाईकोर्ट जबलपुर में दो सैकड़ा याचिकाएं लगी
रेलवे के सूत्रों ने बताया कि ललितपुर सिंगरौली रेल परियोजना के लिए रेलवे ने जमीन के बदले परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का नियम लागू किया है। यही वजह है कि जबलपुर रेल मंडल के सतना, रीवा, मैहर, कटनी जैसे रेलवे स्टेशन में तीन सौ लोगों को नौकरी मिल चुकी है।‌ रेलवे में नौकरी मिलने की बात सुनकर जमीन के मामले में भारी विरोध भी सामने आने लगा। जबलपुर हाईकोर्ट में अब तक दो सैकड़ा हितग्राही जमीन में अपने हक को लेकर याचिका दायर कर चुके हैं। जबलपुर रेल मंडल के डीआरएम एके सिंह पिछले दिनों रीवा रेलवे स्टेशन का दौरा करने आए थे। रामपुर नैकिन के गोडहा टोला, चुरहट तहसील के आधा सैकड़ा लोगों ने मंडल रेल प्रबंधक से मुलाकात करते हुए नौकरी दिलाने की गुहार लगाई है। डीआरएम ने आश्वासन देते हुए कहा था कि हम पूरा प्रयास करेंगे कि जल्द से जल्द हितग्राहियों को रेलवे में नौकरी मिल जाए।


Popular posts from this blog

आज से खुलेंगी किराना दुकानें, खरीद सकेंगे राशन, प्रशासन ने तय किए सब्जी के रेट, देखें लिस्ट

3 जिले पूरी तरह सील, 11 जिलों में टोटल लॉकडाउन, बाहर निकले तो होगी FIR

आपदा प्रबन्धन समिति में गरीबों को भोजन देने का जिम्मेदारी साहब को दी गई है पर साहब अपने कुछ खास मित्रो का ज्यादा ख्याल करते दिखे ये वही है जिनके ऊपर घोटालों की लम्बी लिस्ट तैयार है,