सोना के दाम बिक रही गोडारी नदी की रेत-जिम्मेदार बने अंजान

अनूपपुर।


जिले के अनुपपुर तहसील की सीमा रेखा गोडारी नदी का रेत इन दिनों सोना के दाम बिक रहा है। इस नदी के रेत को अवैध उत्खनन कर सोना के भाव जरूरतमंदों को दिया जाता है। अवैध उत्खनन कर वाहन मालिक औने-पौने भाव निर्माण कार्य करने वालों को सप्लाई कर रहे हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, खनिज संसाधन मंत्री प्रदीप जायसवाल, अवैध उत्खनन में प्रतिबंध लगाये जाने के लिए लगातार प्रयासरत हैं। कलेक्टर आये दिन अवैध उत्खनन में प्रतिबंध की बात करते हैं लेकिन अवैध उत्खनन का कारोबार जोरों पर बढ़ते जा रहा है। गोडारी नदी के धुम्मा घाट, दैखल घाट, सरैया टोला, मनटोलिया, मुडधोवा के आस-पास रेत चोरों का अड्डा बना हुआ है। क्षेत्र के ट्रैक्टर मालिक सूर्य ढलने से लेकर सुबह ७ बजे तक रेत की चोरी करते हैं। इन पर लगाम लगाने के लिए जिला प्रशासन, खनिज विभाग, वन विभाग, पुलिस विभाग, राजस्व विभाग असफल साबित हो रहा है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक अवैध उत्खनन का रेत चोरी करने वाले रसूखदार अपने आपको सत्ता के पक्ष में ढाल लेते हैं और क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों को अपना करीबी बताकर स्थानीय लोगों को भ्रमित करते हैं। जिसके चलते स्थानीय लोग कुछ भी नहीं बोल सकते। हलाकि गोडारी नदी का रेत सोना के भाव बिक रहा है, कारण कि रायल्टी एवं अन्य नियम कानून को धता बताकर वाहन ट्रैक्टर, पिकप, मेटाडोर के चालक एवं वाहन मालिक रात-दिन अवैध रेत की सप्लाई करते हैं। क्षेत्र के लोगों ने संभागायुक्ता आरबी प्रजापति, कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, वन विभाग के जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारियों से मांग किए हैं कि गोडारी नदी पूरी तरह से अवैध उत्खनन की बली चढ़ रही है। इस पर रोक लगाना अति आवश्यक होगा।