टिकट पूंछने वाले टीसी से बेटिकट यात्री ने किया विवाद


आरपीएफ बुलाए जाने का हुआ ऐलान, पहुंचने में विलंब



विशेष रिपोर्ट। स्थानीय रेलवे स्टेशन पर अपनी ड्यूटी कर रहे एक टीसी को अचानक विवाद का सामना करना पड़ गया। सुबह 7.50 पर डाउन की रेवांचल सुपरफास्ट एक्सप्रेस 12185 पहुंची। इस रेलगाड़ी से यात्रियों के उतरने का सिलसिला जैसे ही शुरू हुआ तो दूसरे गेट पर टिकट देखने के लिए टीसी तैनात हो गया। यात्रियों का रेला दोनों गेट से निकलने लगा। इसी दौरान एक हट्टा-कट्टा युवा भी जब निकलने लगा तो टीसी ने उससे यात्रा टिकट मांगी। जिस पर यात्री ने एक आरक्षण टिकट टीसी को दिखाया जरुर पर वह सतना रेलवे स्टेशन तक यात्रा की रही। जबकि सतना से रीवा रेलवे स्टेशन तक रेवांचल सुपरफास्ट जैसी वीआईपी रेलगाड़ी में यात्रा करने के लिए कोई टिकट युवक के पास नहीं थी। जिस पर टीसी ने कहा कि आपने सुपरफास्ट रेलगाड़ी में सफर किया है और कोई टिकट नहीं है। इसलिए आपको रेलवे के तय नियमों के अनुसार पेनाल्टी का भुगतान करना पड़ेगा। मौके पर टीसी को अकेला देखकर युवक अपनी गुंडागर्दी दिखाने लगा। इस बातचीत के बीच दोनों स्टेशन प्रबंधक रमेश सिंह के आफिस के ठीक बगल से मौजूद टीसी आफिस में पहुंच गए। जब युवक झगड़ा करने पर उतारू हो गया तो रेलवे स्टेशन में एनाउंस हुआ कि आन ड्यूटी आरपीएफ स्टाफ टीसी आफिस पहुंचे। जिस जगह रेलवे पुलिस को तत्काल पहुंचना चाहिए था वहां पर पुलिस बल पंद्रह मिनट बाद दो की संख्या में पहुंचा। आए दिन टिकट चेकिंग की ड्यूटी करने के दौरान बाहर के टीसी स्टाफ से मुफ्त के यात्री आए दिन विवाद का सामना करना के लिए मजबूर होते हैं। रेलवे पुलिस की रीवा रेलवे स्टेशन में मौजूदगी किसी मायने की नहीं है। अपने व्यक्तिगत लाभ की लालसा पूरी करने तक रेलवे पुलिस चौकी रीवा की सक्रियता सीमित रह गई।