नवंबर में 29 दिन खराब रही सतना की आवोहवा,आखिरी दिन कम हुआ प्रदूषण

शहर में 200 पार पहुंचा वायु प्रदूषण का स्तर


सतना:  स्मार्ट सिटी वायु प्रदूषण के मामले में दिल्ली की राह पर चल पड़ी है। शहर की आवोहवा में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ रहा है। यदि आप इससे अंजान है तो संभाल जाए क्यों शहर में वायु प्रदूषण का स्तर बीमार करने के लेवल तक पहुंच गया है। नवंबर माह में लिए गए वायु प्रदषण के आकड़े चौकाने वाले हैं। नवंबर के तीस दिनों में 29 दिन शहर की हवा सास लेने लायक नहीं थी। माह के पहले दिन शहर शहर की हवा सबसे अधिक खराब रही। एक नवंबर को *शहर का वायु गुणवत्ता सूचकांक* 249 तक पहुंच गया जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इसके बाद वायु प्रदूषण के स्तर में कुछ सुधार हुआ लेकिन यह 30 नवंबर को छोड़ कर माह में 29 दिन वायु प्रदूषण का स्तर 100 से अधिक रहा,जो मानक से दो गुना अधिक है।



दमा एवं हृयद रोगियों के लिए खतरे की घंटी
पर्यावरण विभाग के अनुसार यदि किसी शहर के वायु मंडल में वायु गुणवत्ता सूचकांक 100 या इससे अधिक स्तर पर पहुंच गया है तो यह दमा एवं हृदय रोगियों के लिए खतरनाक हो सकता है। शहर में बीते एक माह से वायु प्रदूषण का स्तर 150 या इससे अधिक बना हुआ है। प्रदूषित होती हवा शहरवासियों की सांसों में जहर घोल रही है। यदि वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने जल्द ही उपाय शुरू नहीं किए गए तो सतना के हालात दिल्ली जैसे हो सकते हैं।


क्या है वायु गुणवत्ता सूचकांक


पृथ्वी के वायु मंडल में हानिकारक गैसों, धूल कणों एवं सूक्ष्म जीवों की मिलावट को वायु प्रदूषण कहा जाता है। वायु मंडल के प्रमुख प्रदूषक कार्बन मोनो आक्साइड, सल्फर डाई आक्साइड, अमोनिया, लेड, नाइट्रोजन डाई आक्साइड,एवं धूल कण (पार्टीकुलर मैटर पीएम) हैं। वायुमंडल में धुले इन आठ प्रदूषकों के औसत मान को वायु गुणवत्ता सूचकांक कहा जाता है। वायु गुणवत्ता सूचकांक का मानक स्तर 50 हैं। यदि किसी शहर की हवा में एक्यूआई का मान 50 से अधिक है तो  


उस शहर की हवा प्रदूषित मानी जाती है।
एक्यूआई मान हवा का स्तर


0-50 अच्छा
51-100 संतोषजनक


101-200 सामान्य प्रदूषित
201-300 खराब


301-400 अति खराब



शहर में प्रदूषण का स्तर


दिन स्तर
01 नवंबर 249


10 नवंबर 193
15 नवंबर 139


20 नवंबर 142
30 नवंबर 69