मिसिंग बिसाहू लाल सिंह दिल्ली में 8 विधायकों को एक साथ होने की खबर से एमपी में मचा सियासी भूचाल

Apna Lakshya News 


 



शहडोल  मध्य प्रदेश कांग्रेस सरकार के आठ विधायक भाजपा के नेताओं के साथ दिल्ली में होने की खबर से एमपी में सियासी भूचाल आ गया। सबसे बड़ी बात यह रही कि अनूपपुर के वरिष्ठ कांग्रेसी विधायक ,पूर्व मंत्री और प्रदेश उपाध्यक्ष बिसाहू लाल सिंह के साथ रामबाई और एक अन्य विधायक को एक साथ दिल्ली में भाजपा द्वारा मैनेज कर रखे जाने की खबर और प्रदेश कांग्रेस सरकार संकट में आने की खबर ने प्रदेश की राजनीति में भूचाल ला दिया है हालांकि बुधवार की सुबह दिग्विजय सिंह द्वारा इस संदर्भ में दिए गए बयान के बाद कि भारतीय जनता पार्टी के शिवराज सिंह चौहान नरोत्तम मिश्रा और अन्य कई नेता सरकार गिराने की साजिश रच रहे हैं दिग्विजयन सिंह ने आरोप लगाए थे कि उनकी पार्टी के विधायकों को बीजेपी चार्टर्ड प्लेन से दिल्ली ले जा रही है, जबकि बीजेपी ने साफ शब्दों में कहा था कि उसका इससे कोई लेना देना नहीं है और उन्होंने इसे कांग्रेस की आंतरिक कलह करार दिया था।

वहीं कांग्रेश नेताओ का दावा है कि इस पूरे मामले और घटनाक्रम पर कांग्रेसी नेताओं द्वारा पानी फेर दिया गया है , बावजूद इसके अन्य विधायक तो वापस कांग्रेस के साथ आ चुके हैं लेकिन अनूपपुर के विधायक विशाल लाल सिंह की संभवत अभी तक कोई खबर या पुष्टि नहीं हो पा रही है, इसको लेकर सोशल मीडिया न्यूज़ चैनलों में लगातार कांग्रेस और भाजपा नेताओं के बयान आ रहे हैं


यह हुआ बीती रात


मध्य प्रदेश में 8 कांग्रेस के विधायकों के दिल्ली ‘उड़ने’ से सियासी भूचाल आ गया है। रविवार रात आए कमलनाथ सरकार की कुर्सी को हिलाने वाले इस सियासी भूकंप केंद्र दिल्ली और गुरुग्राम रहा। बीजेपी और कांग्रेस के बीच रातभर विधायकों की खींचताना का ड्रामा चला। देर रात तक चले इस ड्रामे में कांग्रेस नेताओं ने बीएसपी विधायक रामाबाई को अपने साथ ले जाने में सफल रहे। बाकी के विधायक अभी भी होटल में ही मौजूद है।


कमलनाथ सरकार बचाने में खुद जुटे दिग्विजय


मध्य प्रदेश के कैबिनेट मंत्री जीतू पटवारी और जयवर्धन सिंह फिलहाल दिल्ली में मौजूद हैं। दोनो नेताओ सहित दिग्विजय सिंह ने कहा कि सभी विधायक कांग्रेस से हैं और वे सभी एक ही होटल में हैं। उन्होंने बताया, ‘दिग्विजय सिंह होटल के बाहर हैं लेकिन पुलिस उन्हें अंदर नहीं जाने दे रही है।’ उच्च शिक्षा मंत्री ने पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान, बीजेपी के चीफ विप नरोत्तम मिश्रा और पूर्व गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह पर सत्तारूढ़ पार्टी के विधायकों को पैसे का लालच देने का आरोप लगाया है।